बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक, और देना बैंक का होगा विलय, बनेगा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक

Image processed by CodeCarvings Piczard ### FREE Community Edition ### on 2018-09-17 14:01:21Z | | ÿÿÿÿÿfFyr

नई दिल्ली: मोदी सरकार बैंकों की विलय प्रक्रिया की दिशा में एक और कदम बढ़ाने जा रही है। इस बार सरकार ने देना बैंक, विजया बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के विलय का फैसला किया है। इस बात की जानकारी वित्तीय सेवा विभाग के सचिव राजीव कुमार ने दी… उन्होंने बताया कि तीनों बैंकों के विलय के बाद जो नया बैंक अस्तित्व में आएगा, वो देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक होगा।

राजीव कुमार ने तीनों बैंकों के विलय से होनेवाले फायदे भी गिनाए। उन्होंने एक ट्वीट में ग्रैफिक्स शेयर किया


अभी देश में बैंक ऑफ बड़ौदा के 5,502, विजया बैंक के 2,129 और देना बैंक के 1,858 ब्रांच हैं। इनके विलय के बाद नए बैंक का 9,489 ब्रांच हो जाएंगे। इसी तरह बैंक ऑफ बड़ौदा के अभी 56,361 कर्मचारी, विजया बैंक के 15,874 कर्मचारी और देना बैंक के 13,440 कर्मचारी हैं। इन्हें मिलाकर नए बैंक में कुल कर्मचारियों की संख्या 85,675 हो जाएगी। इसके साथ ही, नए बैंक का कुल बिजनस 14 लाख 82 हजार 422 करोड़ रुपये का हो जाएगा।
https://static.langimg.com/img/65845267/Master.jpg

गौरतलब है कि इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सहयोगी बैंकों का एसबीआई में विलय किया जा चुका है। दरअसल, सरकार महसूस कर रही है कि कुछ बैंकों के संचालन लागत के मुकाबले फायदे कम हैं, इसलिए बैंकों के विलय को लेकर लगातार विचार-विमर्श होता रहा है। इसी क्रम में सोमवार को सरकार ने इन तीनों बैंकों के विलय का ऐलान कर दिया।

आप की राय

Be the First to Comment!

avatar